Ghazal – Dil ke arman dil ko chhod gaye by Akhtar Ansari

0
183
A famous Ghazal By Akhtar Ansari, Dil ke arman dil ko chhod gaye

A famous Ghazal By Akhtar Ansari, Dil ke arman dil ko chhod gaye…

दिल के अरमान दिल को छोड़ गए
आह मुँह इस जहाँ से मोड़ गए

वो उमंगें नहीं तबीअत में
क्या कहें जी को सदमे तोड़ गए

बादा-ए-बास के मुसलसल दौर
साग़र-ए-आरज़ू को फोड़ गए

मिट गए वो नज़्ज़ारा-हा-ए-जमील
लेकिन आँखों में अक्स छोड़ गए

हम थे इशरत की गहरी नींदें थीं
आए आलाम और झिंझोड़ गए

Visit for More Hindi Shayari:
Facebook: www.facebook.com/IAndPooja
Instagram: www.instagram.com/IAndPooja
Twitter: www.twitter.com/IAndPooja

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here